सिर्फ तीन प्रतिशत मामलों में होती है सजा, 25 अप्रैल, 2017 नई दुनिया